हिमाचल प्रदेश: केस बंद करने के लिए हेड कांस्टेबल ने मांगी एक लाख की रिश्वत, गिरफ्तार

सेना में भर्ती करवाने के ठगी के एक मामले को बंद कराने की एवज में एक लाख रुपये की घूस लेने के आरोप में विजिलेंस की विशेष टीम ने एक हेड कांस्टेबल को गिरफ्तार किया है। विजिलेंस ने उसकी बताई जगह से घूस का पैसा भी बरामद कर लिया है। विजिलेंस ने भ्रष्टाचार निरोधक कानून की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। विजिलेंस के अनुसार ऊना की पंडोगा चौकी में तैनात हेड कांस्टेबल प्रेम सिंह ने ठगी के एक मामले को बंद कराने के लिए आरोपी के परिवार से ढाई लाख रुपये की घूस मांगी। बाद में सौदा 1 लाख रुपये में तय हुआ। प्रेम सिंह ने यह पैसा रविवार को छुट्टी के दिन चौकी के पास देने के लिए कहा। इस दौरान शिकायतकर्ता ने विजिलेंस ब्यूरो को हेड कांस्टेबल के रिश्वत मांगने की सूचना दे दी। इस पर शिमला से आई विशेष टीम ने जाल बिछाया।जैसे ही हेड कांस्टेबल को पैसा देने के लिए पहुंचे तो उसने नजदीक के एक मंदिर के बाहर पड़े बोरे में नकदी रखकर चले जाने के लिए कहा। शिकायतकर्ता बोरे में पैसे रखकर चला गया। इस बीच बोरे से पैसा निकालने से पहले हेडकांस्टेबल को विजिलेंस की भनक लग गई और वह चौकी में चला गया। लेकिन विजिलेंस ने उसे गिरफ्तार कर बताए गए स्थान से घूस के एक लाख रुपये बरामद कर लिए। इस कार्रवाई में विजिलेंस के एसपी ऊना सागर चंद्र शर्मा व उनकी टीम भी मौजूद रही।एडीजी विजिलेंस अनुराग गर्ग ने बताया कि आरोपी पुलिस से जुड़ा हुआ था इसलिए शिमला से विशेष टीम भेजी थी। आरोपी को गिरफ्तार कर एक लाख रुपये बरामद कर लिए हैं। स्थानीय टीम को आगे की कार्रवाई के लिए निर्देश दिए गए हैं।

No comments:

Post a Comment